केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने शुक्रवार को भारत के पहले CNG संचालित ट्रैक्टर का अनावरण किया है। ये एक डीजल ट्रैक्टर है जिसे CNG में कन्वर्ट किया गया है। ये अपने तरह का देश का पहला ट्रैक्टर है। सरकार का मानना है कि इस नए ट्रैक्टर के प्रयोग से देश के किसानों को आत्मनिर्भर बनने में मदद मिलेगी। दरअसल ये ट्रैक्टर केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी का ही है जिसे CNG में कन्वर्ट किया गया है।

इस ट्रैक्टर को आज देश के सामने पेश करने के दौरान नितिन गडकरी ने मीडिया को बताया कि, इस ट्रैक्टर से किसानों को आत्मनिर्भर बनने में मदद मिलेगी। सरकार का दावा है कि इस ट्रैक्टर के प्रयोग से खर्च को तकरीबन 55 प्रतिशत तक घटाया जा सकता है।

 

गडकरी ने बताया कि, देश में एक किसान प्रतिवर्ष ट्रैक्टर के प्रयोग के लिए तकरीबन 3.5 लाख रुपये तक का डीजल खर्च करता है। वहीं सिर्फ खेती के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले ट्रैक्टर पर प्रतिवर्ष तकरीबन 2.5 लाख रुपये तक का खर्च आता है। दावा किया जा रहा है कि इस ट्रैक्टर के प्रयोग से किसान प्रतिवर्ष 1.5 लाख रुपये तक की बचत कर सकता है।

जिस ट्रैक्टर को पेश किया गया है, वह एक पुराना ट्रैक्टर है, जिसे डीजल से सीएनजी ईंधन वाला बनाया गया है। सड़क एवं पर्यावरण मंत्रालय की ओर से जारी किए गए बयान में कहा गया कि रावमैट टेक्नो सॉल्यूशंस और टॉमासेटो ऐशिल इंडिया द्वारा संयुक्त रूप से परिवर्तित और विकसित इस ट्रैक्टर से किसानों की लागत कम करने और ग्रामीण भारत में रोजगार के अवसर पैदा करने में मदद मिलेगी। होने वाली बचत से किसानों को अपनी आजीविका में सुधार करने में मदद मिलेगी।