संयुक्त राष्ट्र जलवायु परिवर्तन सम्मेलन 2021 या COP26 के अध्यक्ष और यूनाइटेड किंगडम (ब्रिटेन) के मंत्री, आलोक शर्मा, जलवायु परिवर्तन पर द्विपक्षीय साझेदारी को मजबूत करने के लिए वार्ताकारों और उद्योगपतियों के साथ बातचीत के लिए सोमवार को भारत पहुंचे। दो दिवसीय यात्रा के दौरान, वह जलवायु मुद्दों पर चर्चा करने और नवंबर में COP26 शिखर सम्मेलन की तैयारी के लिए वरिष्ठ मंत्रियों, व्यापारिक नेताओं और समाज के कुछ लोगों से मुलाकात किया।

गौरतलब है कि कैबिनेट मंत्री और COP26 के अध्यक्ष आलोक शर्मा की एशिया की यह पहली यात्रा है। उम्मीद जताई गई है कि जलवायु परिवर्तन और स्वच्छ ऊर्जा के क्षेत्र में भारत की प्रगति का आकलन करने के लिए शर्मा ने यह दौरा किया है। हाल के वर्षों में भारत ने आपदा प्रतिरोधी संरचना (CDRI) के लिए गठबंधन की स्थापना में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है, जिसकी अध्यक्षता यूके और अंतर्राष्ट्रीय गठबंधन (ISA) द्वारा की जाती है।

ब्रिटिश उच्चायोग ने एक बयान में कहा, ‘सीओपी की तैयारी के हिस्से के रूप में स्वच्छ ऊर्जा प्रवाह पर वैश्विक चर्चा के लिए भारत की विशेज्ञता को बहुत महत्वपूर्ण समझा जा रहा है।’ व्यापार जगत के नेताओं के साथ अपनी बैठकों के दौरान, शर्मा कम कार्बन अर्थव्यवस्था में अवसरों को उजागर करेंगे, कार्बन के शून्य उत्सर्जन को प्राप्त करने के लिए मौजूदा प्रतिबद्धताओं और जलवायु परिवर्तन में सकारात्मक भूमिका निभा रहे प्रभावशाली व्यवसायों को भी प्रोत्साहित करेंगे।