ऑस्ट्रेलिया। प्रधान मंत्री स्कॉट मॉरिसन ने कल घोषणा की कि फाइजर वैक्सीन 30 अगस्त से 16 से 39 वर्ष की आयु के सभी ऑस्ट्रेलियाई लोगों के लिए उपलब्ध हो जाएगी।

यह हमारे टीके की आपूर्ति में विश्वास का प्रतीक है, जो टीकाकरण शुरू होने के बाद से मुद्दों का शिकार रहा है। यह हमें मेहनत करके मौजूदा लक्ष्यों तक पहुंचने का मौका देता है जो यह बताते हैं कि 70% पात्र ऑस्ट्रेलियाई नवंबर तक और दिसंबर तक 80% पूरी तरह से टीका लगवा सकते हैं।

महत्वपूर्ण रूप से, यह देखते हुए कि हम कम उम्र के लोगों में कोविड संक्रमण की उच्च दर और संचरण में उनकी भूमिका के बारे में जानते हैं, यह अपने आप में एक अच्छी खबर है। इस समूह में टीकाकरण दर को बढ़ाना वायरस को नियंत्रित करने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम होगा।

और विभिन्न राज्यों में कुछ नव वयस्कों के लिए जो पहले से ही फाइजर वैक्सीन के लिए पात्र हैं (यह इस बात पर निर्भर करता है कि वह जहां रहते हैं, उनकी नौकरी, और अन्य बातें), यह कदम भ्रम को कम करने के लिए काम करेगा।

युवाओं का टीकाकरण क्यों महत्वपूर्ण है

न्यू साउथ वेल्स के वर्तमान कोविड प्रकोप के दौरान, हमने सुना है कि युवा लोग अनुपातहीन रूप से संक्रमित हो रहे हैं। हम इसे विक्टोरिया में भी सुन रहे हैं।

आंशिक रूप से, ऐसा इसलिए है क्योंकि यह समूह आम तौर पर अपने काम की प्रकृति और सामाजिक जीवन दोनों में अधिक घूमता-फिरता है। बेशक, लॉकडाउन की शर्तों के तहत उनका काम पर जाना प्रासंगिक नहीं होना चाहिए, लेकिन युवाओुं के भी विभिन्न कार्यस्थलों में आवश्यक सेवाओं में काम करने वाले श्रमिकों के साथ साझा घरों में रहने की अधिक संभावना है।

हम जानते हैं कि 20 से 39 साल के लोगों ने पूरी महामारी में मामलों का उच्चतम अनुपात बनाया है, चूंकि अब टीकाकरण कराने वाले उनसे बड़ी उम्र के लोगों की संख्या बढ़ती जा रही है इसलिए नव वयस्कों और बच्चों का संक्रमण का एक बड़ा अनुपात होना समझ में आता है।

चिंताजनक रूप से, एनएसडब्ल्यू के प्रकोप के डेटा से यह भी पता चलता है कि युवा लोग पहले की तुलना में कोविड-19 के संक्रमण के साथ अस्पताल में भर्ती रोगियों का अधिक अनुपात हैं।

यह देखते हुए कि नव वयस्क बड़ी संख्या में इस बीमारी की चपेट में आ रहे हैं, तो यह कहना गलत नहीं होगा कि वे संचरण के बड़े चालक हैं। डोहर्टी इंस्टीट्यूट के हालिया मॉडलिंग ने युवा और कामकाजी उम्र के वयस्कों को कोविड-19 के “पीक ट्रांसमीटर” के रूप में वर्णित किया, और सुझाव दिया कि जो लोग अपनी उम्र के 20 और 30 के दशक में हैं, उन्हें टीका लगाने से बीमारी का समग्र प्रसार कम हो जाएगा।

पहले टीकाकरण के लिए कोविड-19 से गंभीर परिणामों के उच्चतम जोखिम वाले लोगों के साथ-साथ उच्च जोखिम वाली नौकरियों में लोगों को प्राथमिकता देना समझ में आता है। लेकिन इन युवा आयु समूहों को टीका लगवाने के लिए अभी बहुत कुछ करना बाकी है।

उदाहरण के लिए, 35 से 39 साल के 33.5% लोगों को 75 से 79 साल के 86.1% की तुलना में कोविड वैक्सीन की एक खुराक मिली है। 65 से 69 साल के 76.1% की तुलना में 25 से 29 साल के करीब 25% लोगों ने पहली खुराक ली है।

16 से 39 वर्ष की आयु के सभी लोगों के लिए फाइजर का टीकाकरण शुरू करने से हमें उन कम आयु समूहों में टीकाकरण की संख्या बढ़ाने और बदले में संक्रमण और संचरण को कम करने में मदद मिलेगी।

एस्ट्राजेनेका को खारिज न करें

यह खबर फाइजर के लिए वर्तमान में पात्र किसी भी व्यक्ति (मुख्य रूप से अपने 40 और 50 के दशक के वयस्कों) के लिए जरूरी होनी चाहिए कि वह जल्द से जल्द टीका लगवाने के लिए खुद को पंजीकृत करवाएं क्योंकि जब और भी लाखों लोग टीका लगवाने के पात्र हो जाएंगे तो उनके लिए पंजीकरण मुश्किल होता जाएगा।

इसी तरह 16 से 39 वर्ष की आयु के लोग जो फाइजर के टीके के लिए थोड़ा-बहुत प्रयास कर रहे हैं, उनके लिए यह जानना महत्वपूर्ण है कि आप शायद पहले ही दिन बुकिंग नहीं कर पाएंगे और मुमकिन है कि आपको इसके लिए हफ्तों इंतजार करना पड़े।

इसलिए यदि आप पहले से ही एस्ट्राजेनेका का टीका लगवाने पर विचार कर रहे थे, या यदि आपने पहले ही अपॉइंटमेंट बुक कर लिया है, तो उसी पर टिके रहें।

यह एक अत्यधिक प्रभावी टीका है, किसी भी जटिलता का जोखिम अविश्वसनीय रूप से छोटा है, और लाभ महत्वपूर्ण हैं – विशेष रूप से सिडनी जैसे क्षेत्रों में, जहां हम उच्च सामुदायिक संचरण और युवा लोगों को आईसीयू में वायरस से लड़ते हुए देख रहे हैं।

‘मिक्स एंड मैच’ दृष्टिकोण के बारे में क्या?

इधर जहां फाइजर की आपूर्ति बढ़ रही है, और हम अगले महीने मॉडर्न प्राप्त करना शुरू करने की उम्मीद करते हैं, इन एमआरएनए टीकों की दैनिक मांग अभी भी आपूर्ति से अधिक है।

इससे निपटने का एक संभावित तरीका यह होगा कि कुछ लोगों को एस्ट्राजेनेका की पहली खुराक दी जाए और फिर फाइजर की दूसरी खुराक दी जाए। यह हमें अधिक लोगों को जल्द से जल्द टीकाकरण शुरू करने और फाइजर की आपूर्ति को आगे बढ़ाने में मदद करेगा।

यह “मिक्स एंड मैच” दृष्टिकोण पहले से ही कई देशों में खोजा जा रहा है। डेटा दिखा रहा है कि यह न केवल प्रभावी है, बल्कि यह एक ही टीके की दो खुराक से बेहतर सुरक्षा प्रदान कर सकता है।

(कैथरीन बेनेट, डीकिन विश्वविद्यालय जिलॉन्ग,ऑस्ट्रेलिया)