नई दिल्ली। दिल्ली सरकार द्वारा कोविड-19 के स्वरूपों की व्यापकता का निर्धारण करने और शहर के निवासियों के बीच अतिसंवेदनशील क्षेत्र की पहचान करने के लिए एक विस्तृत सीरो सर्वेक्षण का आयोजन करने की संभावना है।

दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (डीडीएमए) की शुक्रवार को हुई बैठक में की गई चर्चा के आधार पर यह जानकारी सामने आयी है। दिल्ली में कोविड के हालात की समीक्षा करने को लेकर उप राज्यपाल अनिल बैजल की अध्यक्षता में हुई बैठक में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया समेत अन्य लोग मौजूद रहे।

बैठक में मौजूद रहे अधिकारियों ने बताया कि कोविड के नए मामलों में कमी के बीच ‘सामान्य परिस्थितियों’ के मद्देनजर एक विस्तृत सीरो सर्वेक्षण कराए जाने का सुझाव दिया गया।

उन्होंने कहा, ‘ सर्वेक्षण के दौरान महामारी के विभिन्न स्वरूपों का निर्धारण करने और शहर के निवासियों के बीच अतिसंवेदनशील क्षेत्र की पहचान करने का कार्य किया जाएगा ताकि टीकाकरण को प्राथमिकता दी जा सके।’

एक अधिकारी ने कहा कि स्वास्थ्य विभाग को इस बारे में निर्देश दिए गए हैं।

बैजल ने बैठक के बाद ट्वीट किया, ‘ संक्रमण के बढ़ने की आशंका को ध्यान में रखते हुए स्वास्थ्य विभाग को अस्पतालों के बुनियादी ढांचे को बढ़ाने के साथ ही ऑक्सीजन एवं दवाओं की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित करने संबंधी सभी आवश्यक कदम उठाने की सलाह दी गई। इसके अलावा, समय पर सीरो सर्वेक्षण का आयोजन सुनिश्चित करने का भी सुझाव दिया गया।’

उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस की अगली लहर की आशंका जताए जाने के बीच किसी भी तरह की चिंता का पता लगाने और उसे दूर करने के लिए क्षेत्रों, स्थानों और विशिष्ट गतिविधियों की तेज एवं लक्षित निगरानी और परीक्षण करने का भी निर्णय लिया गया।

डीडीएम की बैठक के दौरान विशेषज्ञों ने सतर्कता एवं सावधानी बरतना जारी रखने पर जोर दिया।