केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने बुधवार को एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि उन्नत रसायन विज्ञान सेल बैटरी भंडारण के लिए राष्ट्रीय कार्यक्रम को मंजूरी दी गई है। यह निर्णय मेक इन इंडिया को बढ़ावा देने के साथ-साथ आत्मनिर्भर भारत का परिदृश्य होने के कारण लिया गया है।

मंत्रिमंडल की बैठक के बाद सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि ‘मेक इन इंडिया’ पहल को बढ़ावा देने के मकसद से राष्ट्रीय उन्नत रसायन सेल (एसीसी) बैट्री भंडारण कार्यक्रम को मंजूरी दी गई है। इसमें 45,000 करोड़ रुपए का निवेश होने का अनुमान है।

इस पहल का मकसद 50,000 मेगावॉट घंटा एसीसी (उन्नत रसायन बैटरी) और 5,000 मेगावॉट घंटा विशिष्ट एसीसी विनिर्माण क्षमता हासिल करना है। उन्होंने कहा कि इससे पर्यावरण अनुकूल हरित वृद्धि को बढ़ावा मिलेगा और तांबा तथा बॉक्साइट जैसे स्थानीय उत्पादों का उपयोग होगा।