योगी सरकार के कोविड प्रबंधन पर एक बार फिर विश्व स्वास्थ्य संगठन ने मुहर लगाई है। डब्लूएचओ ने एक के बाद एक कई ट्वीट किए और उत्तर प्रदेश सरकार के ट्रेस, टेस्ट और ट्रीट के फार्मूला पर काम करने के प्रयास की जमकर तारीफ की है।

डब्ल्यूएचओ ने कहा कि भारत में सबसे ज्यादा आबादी वाले राज्य उत्तर प्रदेश में राज्य सरकार ने ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना संक्रमितों का पता लगाने के लिए टीम गठित की, जिसने घर-घर जाकर कोविड के एक्टिव केस की पहचान की और संक्रमितों के संपर्क में आने वाले लोगों की भी जांच की। इस प्रयास से कोरोना संक्रमण को काबू करने में मदद मिली है।

डब्ल्यूएचओ ने ट्वीट कर कहा, ‘उत्तर प्रदेश सरकार ने ग्रामीण क्षेत्रों में कोविड-19 मरीजों की पहचान के लिए 1.41 लाख से ज्यादा टीमों और 21242 सुपरवाइजर्स को लगाया है।’ डब्ल्यूएचओ ने कहा, ‘यूपी में गठित टीमों ने 97941 गांवों में जाकर उन सभी लोगों का टेस्ट किया है, जिनमें कोरोना के लक्षण दिखे हैं।

इस दौरान जिन लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है, उन्हें उन्हें आइसोलेट किया गया है और दवा की किट भी दी गई है। इसके अलावा संक्रमितों के संपर्क में आए सभी लोगों को क्वारंटाइन करके टेस्ट किया गया है।’