भारत और बांग्लादेश नदियों के जल के बंटवारे की रूपरेखा, प्रदूषण खत्म करने, नदियों के जल के संरक्षण, बाढ़ प्रबंधन, नदी घाटी प्रबंधन समेत जल संसाधन से जुड़े मुद्दों के विभिन्न पहलुओं पर सहयोग बढ़ाने पर राजी हो गए।

एक आधिकारिक बयान में बुधवार को यह जानकारी दी गई। भारत-बांग्लादेश जल संसाधन सचिव स्तर की बैठक यहां मंगलवार 16 मार्च को हुई। भारतीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व पंकज कुमार, सचिव (जल संसाधन, नदी विकास एवं गंगा पुनर्रुद्धार) ने किया। बांग्लादेशी प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व जल संसाधन मंत्रालय के वरिष्ठ सचिव कबीर बिन अनवर ने किया।

भारत और बांग्लादेश 54 नदियों का पानी आपस में साझा करते हैं जो दोनों देशों के लोगों की आजीविका पर सीधे असर डालती हैं। दोनों पक्षों ने इस मामले में अपने बीच करीबी सहयोग की प्रशंसा की।

बयान में कहा गया है, ‘‘दोनों पक्ष नदियों के जल के बंटवारे की रूपरेखा, प्रदूषण खत्म करने, नदियों के जल के संरक्षण, बाढ़ प्रबंधन, नदी घाटी प्रबंधन समेत जल संसाधन से जुड़े मुद्दों के विभिन्न पहलुओं पर सहयोग बढ़ाने पर राजी हो गए।’’दोनों देश अगली सचिव स्तर की बैठक ढाका में करने पर भी राजी हो गए।