गुरुग्राम में शराब के ठेके पर फायरिंग : पुलिस ने हमलावरों पर रखा 50 हजार रुपये का इनाम


पुलिस के मुताबिक, घटना रात करीब 8.30 बजे हुई जब दो हथियारबंद हमलावर शराब खरीदने दुकान पहुंचे और भीड़ पर गोलियां चला दीं। मौके से फरार होने से पहले उन्होंने करीब 15 राउंड फायरिंग की।


नागरिक न्यूज नागरिक न्यूज
हरियाणा Updated On :

गुरुग्राम। पुलिस ने शनिवार को गुरुग्राम में एक शराब की दुकान पर हुई गोलीबारी में शामिल हमलावरों के बारे में किसी भी जानकारी के लिए 50,000 रुपये के नकद इनाम की घोषणा की, जिसमें एक व्यक्ति की मौत हो गई और दो अन्य बंदूक की गोली से घायल हो गए। घटना पचगांव इलाके में एक शराब की दुकान पर रात करीब साढ़े आठ बजे हुई। शुक्रवार को जब दो हथियारबंद हमलावरों ने फायरिंग कर दी। इस घटना का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया, जिसमें हमलावरों को फायरिंग करते देखा जा सकता है।

गुरुग्राम की पुलिस आयुक्त कला रामचंद्रन ने आईएएनएस को बताया, गोलीबारी में शामिल अपराधियों को पकड़ने के लिए गुरुग्राम पुलिस हर संभव प्रयास कर रही है। मामले को सुलझाने के लिए कई टीमों का गठन किया गया है। पुलिस ने हत्यारों के बारे में किसी भी जानकारी के लिए 50,000 रुपये के इनाम की घोषणा की है। सूचना देने वाले की पहचान गोपनीय रखी जाएगी।

दुकान के मालिक कुलदीप सिंह द्वारा दायर शिकायत के अनुसार, उन्हें और उनके भाई प्रवीण को एक सप्ताह पहले एक विदेशी फोन नंबर से धमकी भरा फोन आया था, जिसमें कहा गया था कि अगर उन्होंने दुकान का स्वामित्व उनके नाम पर स्थानांतरित नहीं किया तो उन्हें परिणाम भुगतने होंगे।

फायरिंग की घटना के बाद सिंह का फिर से फोन आया जिसमें फोन करने वाले ने इसकी जिम्मेदारी ली। पुलिस के मुताबिक, घटना रात करीब 8.30 बजे हुई जब दो हथियारबंद हमलावर शराब खरीदने दुकान पहुंचे और भीड़ पर गोलियां चला दीं। मौके से फरार होने से पहले उन्होंने करीब 15 राउंड फायरिंग की।

तीन ग्राहक – यूपी के सहारनपुर निवासी संदीप और राजस्थान के अलवर निवासी देवराज शर्मा और राजेंद्र प्रसाद गंभीर रूप से घायल हो गए, जबकि कुछ अन्य को मामूली चोटें आईं। तीनों को नजदीकी अस्पताल ले जाया गया जहां डॉक्टरों ने संदीप को मृत घोषित कर दिया।

सिंह ने पुलिस को बताया, मैं दुकान के पीछे कार्यालय में था और गोली चलने की आवाज सुनकर बाहर आया। जब मैंने मदद के लिए शोर मचाया तो दोनों आरोपी मौके से भाग गए। अस्पताल में मुझे फिर से विदेश से फोन आया। इस नंबर पर फोन करने वाले ने दावा किया कि यह दुकान उसे नहीं सौंपने का नतीजा है। उसने फिर से मुझे जान से मारने की धमकी दी।

अज्ञात कॉलर और दो शूटरों के खिलाफ मानेसर पुलिस स्टेशन में आईपीसी की संबंधित धाराओं के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई है।